1962 के चीन से युद्ध के बाद से आज हुआ सपना साकार, देखिए वीडियो

1962 के चीन से युद्ध के बाद से आज हुआ सपना साकार, देखिए वीडियो

देहरादून । उत्तरखण्ड के उत्तरकाशी के लिए पर्यटन की दृष्टि से अच्छी खबर आई है । हर्षिल नेलांग विदेशी पर्यटकों के लिए भारत के गृह मंत्रालय ने अनुमति दे दी है। आज अनुमति का गृह मंत्रालय का आदेश लेकर उत्तर काशी के सामाजिक कार्यकर्ता व बीजेपी नेता लोकेंद्र सिंह बिष्ट बीजेपी मुख्यालय पहुँचे। यहाँ खनन की प्रेस कर रहे मुखिया अजय भट्ट ने इनर लाइन का जिक्र करते हुये भारत सरकार का धन्यवाद दिया। लोकेंद्र बिष्ट ने प्रेस को बताया कि आज से पर्यटन की तकदीर खुल चुकी है। नेलांग और हर्षिल 1-1 माह विदेशी पर्यटकों की भरमार रहेगी। इस से उत्तर काशी की आर्थिक की जीवन रेखा मे बदलाव आएगा। पिछले साल 5 जून को लोकेंद्र सिंह के नेतृत्व मे बीजेपी कार्यकर्त्ता राजेंद्र काला, संपादक शीशपाल गुसाईं, राज्य पाल के के पॉल को सचिवालय में मिले थे। राज्य पाल ने फ़ौरन प्रमुख सचिव गृह उमाकांत पंवार को बात कर इन राईट मे निर्देश किए थे। पंवार को कॉपी दी गई थी। पंवार ने मुख्य सचिव से प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजना था। पंवार के यहाँ कई चक्कर मारे। उसके बाद दिल्ही गया कागज। फिर लोकेंद्र ने दिल्ली में किरण रिजिजू भारत के स्टेट होम मिनिस्टर के यहाँ डेरा डाला।

फिर भारत सरकार के जाँच के बाद 19 मई को आदेश जारी किए गए। आज कॉपी लोकेंद्र ने जारी की।

1962 के चीन से युद्ध के बाद विदेशी पर्यटकों के लिए हर्षिल और नेलांग बंद कर दिया था। देशी पर्यटक प्रशासन की अनुमति से जाते थे। लेकिन पर्यटन का वो रिदम नहीं पकड़ पाया। आज दरवाजे गृह मंत्रालय ने खोल दिए हैं। उत्तरकाशी मे ख़ुशी की लहर है। होटल व्यवसाई ने ख़ुशी जाहिर की है। लेकिन यह तय है कि यदि उत्तराखण्ड में 45 -50 दिन राष्ट्रपति शासन नहीं होता तो अनुमति मिलनी संभव नहीं थी। राज्यपाल के सामने किसी नेता ने चू नहीं की। कागज सरपट दौड़े। लेकिन खिसकने वाले चाहिए थे।

– शीशपाल गुसाईं


देखे विडियो –