37वें अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेला की शुरुआत

37वें अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेला की शुरुआत

नई दिल्ली ।  प्रगति मैदान मे चल रहे 37वें भारत अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेले में उत्तराखण्ड दिवस समारोह के अवसर पर आयोजित सांस्कृतिक सन्ध्या एवं उत्तराखण्उ पैवेलियन में बतौर मुख्य अतिथि उत्तराखण्ड के कृषि, कृषि विपणन, कृषि प्रसंस्करण, कृषि शिक्ष़्ाा, उद्यान एवं फलोद्योग, रेशम विकास मंत्री श्री सुबोध उनियाल ने शिरकत कर दीप प्रज्वलित कर शुभारम्भ किया। इस अवसर पर हंसध्वनि थियेटर में उत्तराखण्ड के कलाकारों द्वारा विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये। सांस्कृतिक सन्ध्या के माध्यम से राज्य की विशिष्ट संस्कृति का अवलोकन विभिन्न क्षेत्रों से आये दर्शकों द्वारा किया गया।

श्री उनियाल ने अपने संबोधन में सर्वप्रथम प्रवासी उत्तराखण्डियों को उत्तराखण्ड दिवस की बधाई देते हुयें कहा कि राज्य ने अपनी स्थापना के 17 वर्ष पूरे किये हैं और इन 17 वर्षो में उत्तराखण्ड में विकास के नये सोपानों को छुआ है। राज्य ने शिक्षा, स्वास्थ्य, पर्यटन बागवानी आदि के क्षेत्रों में महत्वपूर्ण कार्य किये गये है। देश में हम सबसे तेजी से आर्थिक प्रगति कर रहे राज्यों की श्रेणी में सम्मिलित हैं। उन्होनंे कहा कि उत्तराखण्ड सरकार द्वारा किसानों की आय अगले 2 वर्ष में दुगनी करने का लक्ष्य रखा गया है व राज्य सरकार द्वारा किसानों को 2 फीसदी ब्याज पर 1 लाख रूपये तक का कर्ज दिया जा रहा है। इसके आलावा औद्यानिकी विकास को बढ़ावा देने के लिये “एक ग्राम-एक फाॅर्म” विकसित करने का निर्णय लिया गया है।

उन्होनंे ने कहा कि उत्तराखण्ड में पर्यटन, बागवानी आदि में अपार संभावना है इसके तहत पर्यटन को बढ़ावा देने के लिये 13 जिलों में 13 नये पर्यटन स्थल विकसित किये जा रहे है। उन्होनें बताया कि इस वर्ष चार-धाम यात्रा में लगभग 23 लाख यात्रियों ने दर्शन किये। केन्द्र के आॅलवेदर प्रोजेक्ट्स का कार्य तेजी से हो रहा है जिससे राज्य के नौजवानों को रोजगार के अवसर मिलेगें एवं राज्य में पलायन को रोकने मेें सहायक होगी। राज्य सरकार ने भ्रष्टाचार पर जीरो टाॅलरेन्स की नीति अपनाई है। श्री उनियाल ने प्रवासी उत्तराखण्डियों से आहवान किया कि आप अपने कार्य क्षेत्रों में आगे बढें लेकिन अपनी जड़ों से जुडे रह कर उत्तराखण्ड के राजदूत के रूप में कार्य करें। श्री उनियाल ने प्रवासी उत्तराखण्डियों से अनुरोध किया कि आपके कार्य क्षेत्रों के अनुभव का लाभ राज्य के नौजवानों को पे्ररणा दे सकता है।

इस वर्ष व्यापार मेले की थीम “स्टार्ट-अप इण्डिया स्टैंड-अप इण्डिया” रखी गयी है। मेले में सहभागी राष्ट्र के रूप में सोशलिस्ट रिपब्लिक आॅफ वियतनाम तथा जबकि राज्यों में सहभागी राज्य झारखंड के रूप में प्रतिभाग कर रहा है। उत्तराखण्ड में पैवेलियन में “स्टार्ट-अप इण्डिया स्टैंड-अप इण्डिया” थीम के अनुसार उत्तराखण्ड में हो रहे सतत् विकास का प्रस्तुतीकरण, राज्य सरकार की नीतियों एवं कार्यक्रमों की जानकारी के साथ-साथ प्रदेश के सूक्ष्म, लघु, मध्यम एवं बृहद उद्योगों, हथकरघा एवं हस्तशिल्प, राज्य के कृषि एवं उद्यान क्षेत्र के उत्पादों को प्रदर्शित किया गया हैं। राज्य सरकार के उद्योग विभाग, पर्यटन, उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग, हथकरघा-हस्तशिल्प एवं खादी ग्रामोद्योग, उत्तराखण्ड राज्य विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद्, उत्तराखण्ड अक्षय ऊर्जा विकास अभिकरण, उत्तराखण्ड चाय विकास बोर्ड, राज्य औद्योगिक अवस्थापना विकास निगम लि0, ने अपने स्टाॅल स्थापित किये है, जिनमें इन विभागों की योजनाओं एवं उपलब्धियों को आकर्षक ढंग से प्रस्तुत किया गया है। पर्यटन विभाग के स्टाॅल का मुख्य आकर्षण केदारनाथ मंदिर की प्रतिकृति है। पर्यटन विभाग के स्टाॅल में उत्तराखण्ड शीतकालीन चार-धाम यात्रा, साहसिक पर्यटन की जानकारी उपलब्ध करायी जा रही है।

इस कार्यक्रम में उत्तराखण्ड के अपर स्थानिक आयुक्त डाॅ मृत्युंजय कुमार, श्रीमती बीना भट्ट, निदेशक संस्कृति, श्री सुधीर चन्द्र नौटियाल, अपर निदेशक उद्योग, श्रीमती पूनम चंद सयुक्त निदेशक पर्यटन, श्री के0 सी0 चमोली, पैवेलियन डायरेक्टर व अन्य उत्तराखण्ड के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।