यूरोपीय देश के साथ समन्वय कार्य से उत्तराखण्ड के विकास में मिलेगी मदद

यूरोपीय देश के साथ समन्वय कार्य से उत्तराखण्ड के विकास में मिलेगी मदद

देहरादून | मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से बुधवार देर सायं मुख्यमंत्री आवास पर इण्डो-यूरोपियन कोर्पोरेशन सेंटर के प्रतिनिधिमंडल ने भेंट की। इस अवसर पर इण्डो-यूरोपियन कोर्पोरेशन सेंटर के साथ इण्टीग्रेटेड डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत शिक्षा, पर्यटन, कृषि, वेस्ट मेनेजमेंट पर कार्य करने हेतु चर्चा की गई। प्रतिनिधिमण्डल के सदस्यों ने कहा कि यूरोपीय देश आस्ट्रिया, स्विटजरलेण्ड, जर्मनी की भौगोलिक परिस्थिति उत्तराखण्ड से मिलती-जुलती है। यदि शिक्षा, पर्यटन एवं कृषि के क्षेत्र में इन यूरोपियन देशों के साथ समन्वय से कार्य किया जाए तो इन क्षेत्रों में उत्तराखण्ड के समग्र विकास में काफी मदद मिलेगी। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि राज्य सरकार पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए पर्यटकों के हिसाब से पर्यटन क्षेत्रों को विकसित करने की योजना है। उन्होंने कहा कि पलायन को रोकने के लिए गांवों को माॅडल ग्रामों के रूप में विकसित किया जाना जरूरी है जहां आधुनिक खेती के साथ सभी आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराई जा सके। उन्होंने कहा कि इस सम्बन्ध में प्रतिनिधिमण्डल के लोगों की सम्बन्धित विभागीय सचिवों से एक बैठक की जायेगी। प्रतिनिधिमंडल में आस्ट्रिया के श्री कृष्टयानमान, जर्मनी के श्री अंजनी कुमार राय के साथ तपोवन ऋषिकेश के श्री कृष्णायोगी एवं कुंजापुरी के श्री राजेन्द्र भण्डारी भी उपस्थित थे।