भारतीय महिला हॉकी टीम की खिलाड़ी ज्योति गुप्ता की ट्रेन से कुचलकर मौत

भारतीय महिला हॉकी टीम की खिलाड़ी ज्योति गुप्ता की ट्रेन से कुचलकर मौत

देश की महिला खिलाड़ी अपनी प्रतिभा और जूनून के बल पर बेहतर प्रदर्शन कर रही हैं। चाहे क्रिकेट हो या हॉकी हर तरफ भारतीय महिला खिलाड़ियों ने अपनी चमक बिखेरी है। तो आखिर देश की इस महिला खिलाड़ी ने क्यों कर ली आत्महत्या ।

देश की महिला हॉकी टीम की खिलाड़ी ज्योति गुप्ता का मृत शरीर बुधवार रात करीब 8.30 बजे हरियाणा के रेवाड़ी के पास चंडीगढ़-जयपुर रेलवे ट्रैक पे मिला। 20 साल की ज्योति हॉकी में नेशनल गोल्ड मेडलिस्ट रह चुकी है।चंडीगढ़-जयपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस ट्रेन के ड्राइवर ने पुलिस जांच में बताया कि जब ट्रेन झज्जर रोड के पुल के पास से गुजर रही थी तभी महिला खिलाड़ी ज्योति अचानक ट्रेन के सामने आ गई। जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई।

यह भी पढ़े  बिना बैंक अकाउंट के आधार नंबर से होगा लेन-देन

ज्योति गुप्ता हॉकी में एक स्ट्राइकर खिलाड़ी थी। बीते 4-5 सालों से भारतीय महिला हॉकी टीम का हिस्सा थीं, हाल ही में गुवाहाटी में हुए सैफ गेम्स में भी उसने भाग लिया था। ज्योति को अगले हफ्ते बैंगलुरु में होने वाले हॉकी कैंप में भी हिस्सा लेना था। इसी साल मई के महीने में ज्योति ने रोहतक में हुए सीनियर हॉकी चैंपियनशिप के लिए ऑल इंडिया यूनिवर्सिटी टीम की तरफ से भी हिस्सा लिया था।ऐसे में हर कोई इस बात से परेशान है कि आखिर क्यों ज्योति ने मौत को गले लगा लिया। आखिर ऐसी क्या मजबूरी थी कि ज्योति चलती ट्रेन के नीचे आ गई।

यह भी पढ़े  शशिकला को मिली राहत, शपथ रोकने की याचिका पर सुनावई से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

ज्योति के परिजनों का कहना है कि बुधवार को उनकी बेटी ज्योति सोनीपत घर से रोहतक महर्षि दयानंद यूनिवर्सिटी जाने के लिए निकली थी। ज्योति की मां के मुताबिक उसकी मार्कशीट में नाम गलत लिखा था, जिसे वो ठीक कराने के लिए यूनिवर्सिटी गई थी। मां ने उसे शाम 7 बजे फोन किया तब ज्योति ने कहा था कि रास्ते में बस खराब हो गई है, लेकिन दोबारा फोन किया गया तो उसका मोबाइल बंद आया। रात करीब 10:30 बजे जब ज्योति का फोन ऑन हुआ तब उन्हें यह दुखद खबर पुलिस के द्वारा पता चली।

यह भी पढ़े  स्वतंत्रता दिवस पर मस्जिद में फहराया गया तिरंगा

ज्योति के पिता प्रमोद गुप्ता, मां बबली व कोच अनिल कुमार ने ज्योति की खुदखुशी की खबर से इंकार किया है।