बड़ी खबर – टूटा बिहार महागठबंधन, भाजपा संग नितीश बनायेंगे नयी सरकार

बड़ी खबर – टूटा बिहार महागठबंधन, भाजपा संग नितीश बनायेंगे नयी सरकार

बिहार | भारी राज​नीतिक गहमा गहमी के बीच मात्र तीन घंटे के भीतर बिहार के राजनीतिक समीकरण पूरी तरह से उलट गए। बुधवार शाम 6 बजे तक महागठबंधन के नेता के रूप में मुख्यमंत्री पद पर बैठे नीतीश कुमार ने 6:30 बजे पद से इस्तीफा दिया और रात 9 बजे तक उन्हें एनडीए का नेता घोषित कर दिया गया। नीतीश कुमार भाजपा के समर्थन से सरकार बनाने का दावा करेंगे। भाजपा बिहार सरकार में शामिल भी होगी। इस बीच समर्थन के लिए नीतीश कुमार ने ट्वीट कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया।

इससे पहले नीतीश कुमार ने बुधवार शाम 6:30 बजे राज्यपाल से मुलाकात कर अपना इस्तीफा सौंप दिया था। इसके साथ ही राज्य में पिछले 20 माह से चल रहा जदयू-राजद और कांग्रेस का महागठबंधन टूट गया। राजभवन से लौटने के बाद नीतीश कुमार ने मीडिया से बातचीत में कहा कि जैसा माहौल चल रहा था उसमें काम करना मुश्किल हो गया था। मैंने अपनी अंतरात्मा की आवाज पर इस्तीफा दिया है।l

ये हैं इस्तीफा देने के बाद नितीश द्वारा कही गई ख़ास बातें –

  1. 20 महीने तक गठबंधन चलाया है, जितना संभव हुआ गठबंधन धर्म निभाने का पालन किया।
  2. हमने जनता के लिए काम किया , चुनाव में जो वादा किया उसे पूरा किया
  3. 20 महीना में जो चीजें उभर कर सामने आई, उस माहौल में काम करना असंभव हो गया था
  4. हमारी लालू जी से भी बात होती रही है, तेजस्वी जी से भी बात की। हमने सिर्फ यही कहा कि जो भी आरोप लगे हैं उन पर आकर सफाई दें
  5. हमारी लालू जी से भी बात होती रही है। तेजस्वी जी से भी बात की। हमने सिर्फ यही कहा कि जो भी आरोप लगे हैं उन पर आकर सफाई दें
  6. ऐसी स्थिति में सरकार चलना संभव नहीं, जितना संभव हुआ उतना चलाया।
  7. यह फैसला हमने अंतरआत्मा की आवाज पर लिया
  8. तेजस्वी यादव के मुद्दे पर हमने राहुल गांधी से बात की थी, तेजस्वी ने सफाई नहीं दी, हमको जबाव देना मुश्किल हो गया था
  9. नोटबंदी के समय मेरे उपर कैसे कैसे आरोप लगे, जो जनहित में था मैंने वो बात कही।
  10.  राष्ट्रपति के चुनाव के सवाल पर हमारे उपर कई आरोप लगे, हमने कहा था कि वे हमारे राज्य के गवर्नर थे अगर वे राष्ट्रपति बनते है तो हमारे लिए गर्व की बात होगी।
  11. भाजपा के समर्थन के सवाल पर बोले नीतीश- बिहार के हित में सारे विकल्प खुले हुए है।
  12. नीतीश कुमार ने इस्तीफा देने से पहले हमने विधानमंडल दल के सदस्यों, लालू प्रसाद और कांग्रेस के अध्यक्ष को भी इसकी जानकारी दे दी थी।
  13. नीतीश कुमार ने कहा कि मैं विपक्षी एकता का पक्षधर लेकिन एकता का कोई एजेंडा होना चाहिए।
  14. अगर तेजस्वी इस्तीफा देते तो बड़ी ऊंचाइयों पर चले जाते। सबके अपने-अपने रास्ते हैं। हमारे अपने रास्ते हैं।
  15. जो चीजें उभर कर सामने आई हैं मेरे लिए काम करना और नेतृत्व करना संभव नहीं है। हमने अपनी ओर से कोशिश भी की।