श्री बदरीनाथ धाम के कपाट विधि-विधान पूर्वक शीतकाल के लिए बंद

श्री बदरीनाथ धाम के कपाट विधि-विधान पूर्वक शीतकाल के लिए बंद

बदरीनाथ | उत्तराखंड के चमोली गढ़वाल में स्थित श्री बदरीनाथ धाम के कपाट विधि-विधान पूर्वक शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए। मान्यता के अनुसार अब शीतकाल में देवताओं के प्रतिनिधि देवऋषि नारद भगवान बदरी नारायण सहित मां लक्ष्मी की पूजा करेंगे, जबकि, भगवान की नर पूजा पांडुकेश्वर में होगी। कपाट बंदी के मौके पर मुख्यमंत्री हरीश रावत समेत पांच हजार से अधिक यात्रियों ने भगवान बदरी विशाल के दर्शन किए। ब्रह्म मुहूर्त में महाभिषेक पूजा के साथ भगवान नारायण का फूलों से भव्य शृंगार हुआ। कपाट बंदी के दिन भगवान का आभूषणों के बजाए फूलों से शृंगार होता है। इसलिए इस दिन को फूल शृंगार के रूप में जाना जाता है।