खराब मैच या सीरीज के बाद धमाकेदार वापसी करते हैं कोहली, कई बार कर चुके ऐसा

खराब मैच या सीरीज के बाद धमाकेदार वापसी करते हैं कोहली, कई बार कर चुके ऐसा

नईदिल्ली । विराट कोहली विश्व क्रिकेट में शीर्ष बल्लेबाज़ों में शुमार हैं. इसके साथ ही उनकी शख्सियत ऐसे खिलाड़ी की मानी जाती है जिसे छेडऩा टीमों पर भारी पड़ता है, लेकिन ये ज़रूरी नहीं कि टीम इंडिया के कप्तान को यह चैलेंज विपक्षी टीम की तरफ़ से ही मिले. विराट आज जिस मुकाम पर हैं उसके पीछे वजह हर नाकामी के बाद उनकी ज़ोरदार वापसी रही है.टेस्ट क्रिकेट में ऐसे अवसर आए है जब विराट ने कुछ मैच में बल्ले से असफल रहने के बाद जोरदार तरीके से न केवल वापसी की बल्कि यादगार पारी खेली. आइए डालते हैं ऐसे वाकयों पर नजर…
दिसंबर 2012, नागपुर, में इंग्लैंड के खिलाफ बनाया था शतक
इंग्लैंड के खिलाफ़ भारत में हुई सीरीज़ के पहले तीन टेस्ट मैचों  में विराट के बल्ले से 17 की औसत से महज़ 85 रन निकले. ऐसा लगा कि विराट के बल्लेबाजी कौशल में जंग लग गया है. भारत उस सीरीज़ में पहली बार 2-1 से पिछड़ा और अंतिम टेस्ट में विराट के बल्ले का दम दिखाई दिया.नागपुर में विराट ने शतक लगाया और सीरीज़ में हावी हुई इंग्लैंड को रोकने का काम किया.
दिसंबर 2013, जोहानिसबर्ग में दोनों पारियों में दिखाई चमक
दक्षिण अफ्ऱीका के खिलाफ़ वनडे सीरीज़ में विराट पूरी तरह फ़ेल रहे. पहले 2 वनडे मैच में 31,0 बनाने के बाद भारत 0-2 से सीरीज़ हारा.टेस्ट सीरीज़ का आगाज़ हुआऔर पहले ही टेस्ट में विराट कोहली ने शानदार कमबैक की. विपक्षी गेंदबाजों की धार को कुंद करते हुए उन्होंने पहली पारी में शतक और दूसरी पारी में 96 रन बनाए. हालांकि मैच ड्रॉ समाप्त हुआ लेकिन विराट मैन ऑफ़ द मैच बने
अगस्त 2015, श्रीलंका में भारत को जिताई थी सीरीज
श्रीलंका के खिलाफ़ सीरीज़ के पहले टेस्ट में 176 रनों का पीछा करते हुए विराट की कप्तानी में टीम 112 रनों पर ढेर हो गई..खुद विराट 3 रन बनाकर पवेलियन लौटे..लेकिन अगले ही टेस्ट में विराट कोहली ने 78 रनों की ज़ोरदार पारी खेलकर टीम को मज़बूत स्थिति में पहुंचाया और भारत को अपनी कप्तानी में 2-1 से पहली सीरीज़ जीत दिलाई
नवंबर 2016, इंग्लैंड के खिलाफ विशाखापट्नम में शतक
पिछले साल इंग्लैंड के खिलाफ़ सीरीज़ का आगाज़ मनमुताबिक नहीं हुआ. टीम इंडिया राजकोट के पहले टेस्ट मैच में बड़ी मुश्किल से हार से बच पाई थी. इंग्लैंड का पलड़ा वहां भारी रहा.अगले ही टेस्ट में विराट कोहली ने ज़ोरदार 167 रनों की पारी खेली और टीम इंडिया का विजय रथ फिर चल पड़ा. इसी सीरीज़ में विराट ने दोहरा शतक लगाकर इंग्लैंड की रही-सही उम्मीदों को भी खत्म कर दिया. टीम इंडिया ने यह सीरीज 4-0 से जीती थी.
2014/15, ऑस्ट्रेलिया दौरे में बनाए थे 692 रन
विराट कोहली के करियर का सबसे खऱाब दौर 2014 में इंग्लैंड दौरे पर आया. विराट कोहली इस सीरीज़ के 5 टेस्ट की 10 पारियों में 13.40 की औसत से महज़ 134 रन ही बना सके थे. ऐसे में  उनकी क्षमता पर सवाल उठने ही थे.  उन सवालों के जवाब ढूंढने विराट अपने कोच से लेकर सचिन तेंदुलकर तक के पास गए. नतीजा ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ़ टीम इंडिया के अगले ही दौरे में विराट कोहली ने 4 शतक और 1 अर्धशतक की मदद से कंगारुओं के खिलाफ़ एक सीरीज़ में सबसे ज्यादा रन बनाने का भारतीय रिकॉर्ड बना डाला. विराट ने 86 से ज्यादा की औसत से 692 रन बनाए.