2 नवंबर को लगा अब बना उत्तराखण्ड राज्य : भीम लाल आर्य

2 नवंबर को लगा अब बना उत्तराखण्ड राज्य : भीम लाल आर्य

गैरसैंण विधानसभा सत्र से लौटे विधायक घनसाली भीम लाल आर्य ने कहा है कि गैरसैंण स्थाई राजधानी के लिए उपयुक्त है। वे दूसरी बार गैरसैंण गए हैं । सत्र में शामिल होने । पहली बार टैंट में मन मजबूत नहीं हुआ । लेकिन दो नवंबर को दूसरी बार गैरसैंण प्रवेश करने पर और वहां संरचनात्मक विकास देखने पर लगा कि ,आज हमे पंद्रह साल बाद राज्य मिला । विधायक भीम लाल आर्य ने बताया कि शहीद भी यही चाहते थे ।पहाड़ की राजधानी पहाड़ पर हो ।गैरसैंण से ही पूरे प्रदेश की गंगा बहेगी । वहाँ विधानसभा और रहने के लिए विधायक निवास बनने वाले हैं ।विधायक आर्य ने बताया कि अधिकारी जब  पहाड़ पर चढ़ेगा, देखेंगे तब उसे ऐहसास होगा । दरअसल राज्य मांगने की कल्पना  ही यही थी। कुछ विधायक के सदन में अशोभनीय आचरण पर उन्होंने कहा बीजेपी के पूरे देश मे दुर्दिन आ गए हैं । विधायक को अपने आचरण का ख्याल रखना चाहिए ।गैरसैंण लडाई का केंद्र नही है । वहाँ पहाड़ के विकास की चर्चा होनी चाहिए थी । हरीश रावत जी चर्चा के लिए तैयार थे लेकिन कुछ विधायक मारने आ गए जैसे रावत जी ने कोई भारी गलती कर दी हो?  गैरसैंण मे अधिकारी  जनता के बीच रहेंगे । मैंने तो देहरादून सचिवालय मे अपर मुख्य सचिव को जमीन पर बैठाने को मजबूर किया। सभी लोगो को देहरादून या किसी अन्य जगह का मोह छोड देना चाहिए । और गैरसैंण की अभी से मानसिकता बनानी चाहिए । क्योंकि हरीश रावत जी का क्लियर संदेश है ।

bheem_lal_arya_!