पैरागलाइडिंग के लिए चिन्यालीसौड़ दुनिया की खुबसूरत जगह

पैरागलाइडिंग के लिए चिन्यालीसौड़ दुनिया की खुबसूरत जगह

  • उत्तरकाशी
पैरागलाइडिंग के जरीये स्थानीय युवाओं को स्वरोजगार से जोड़ने की मुहिम को लेकर जिलाधिकारी डा. आषीश चौहान ने अपने निजी प्रयासों से एक बार फिर पैरागलाइडिंग की अनुभवी टीम से चिन्यालीसौड़ में रेखी कराई। षुक्रवार को पैरागलाईडिंग एसोसिएषन ऑफ पऊ के मनोज कोहली, षंकर सिंह, प्रेम ठाकुर, चन्द्रमोहन, दीपक नगुलिया, षिवानी गुसाई ने अलग-अलग स्थान से पैरागलाइडिंग की उड़ान भरी।
 उन्होंने बताया कि पैरागलाइडिंग के लिए चिन्यालीसौड़ दुनिया की खुबसूरत जगह है यहां नैसर्गिक सौन्दर्य के साथ -साथ टिहरी डैम से बनीं सुन्दर झील एवं हिमालय पर्वत की बर्फ से ढकी हुई श्रेणियां देखने को मिलती है। यहां पर पैरागलाइडिंग के क्षेत्र में युवाओं को स्वरोजगार से जुड़ने के लिए अपार सम्भावनाएं है इससे सहासिक पर्यटन को निष्चित तौर पर बढ़ावा मिलेगा।



गौरतलब है कि गत माह को भी जिलाधिकारी डा. चौहान ने चिन्यालीसौड़ में पैरागलाइडिंग की एक्सपर्ट टीम से रेखी कराई थी। उस दौरान रेखी कर रही एक्सपर्ट टीम ने चिन्यालीसौड़ को पेरागलाइडिंग के लिए मुफिद बताया था। उल्लेखनीय है कि जिलाधिकारी ने जनपद को अभिनव दिषा देने एवं स्वरोजगार स्थापित करने के लिए कई नवीन पहल की है। बता दें कि जिलाधिकारी ने जनपद के पौराणिक माघ मेले के दौरान जल क्रिड़ा कयाकिंग, कैनोइंग, सलालम, राफ्टिंग प्रतियोगिताएं कराई थी। इसके अलावा मुख्य बाजार में उद्योग विभाग परिसर में किसान आऊट लेट कैंटिन को प्रारम्भ कर स्थानीय उत्पाद को बढ़ावा देने एवं लोगों को स्वरोजगार से जोड़ने एवं किसानों की आय को दोगुना करने के लिए अहम कदम उठायें। उन्होंने कहा कि किसानों के उत्पाद भी बाजार में अच्छे दाम में बिक सके तथा गांव का ताजा दुध बाजार के लोगों को मिल सके इसके लिए उन्होंने किसान आऊट लेट खोलने की कल्पना की थी।



जिलाधिकारी ने कलेक्ट्रेट परिसर में भी किसान आऊट लेट कैंटिन स्थापित कर स्वयं सहायता समूह को रोजगार से जोड़ने के लिए अभिनव पहल की है। स्वयं सहायता समूह के लोग स्थानीय व्यंजनों की बिक्री कर अच्छी आमदानी प्राप्त कर रहें है। यही नहीं स्वच्छता के प्रति भी लोगों को जागरूक किया जा रहा है। बृहद रूप से जिला मुख्यालय के सभी वार्ड, विकास खण्ड भटवाड़ी एवं गंगोत्री में विषेश सफाई अभियान चलाया गया। गंगोत्री से करीब 15 ट्रक कूड़ा निचे लाया गया। इसके अलावा आम लोगों के बीच जागरूकता लाने के लिए एंटी स्पीटिंग, दिवार के कोनों, फर्ष आदि में थूकना मना है को लेकर भी एक बृहद जागरूक अभियान चलाया गया जिसमें स्कूली बच्चों के द्वारा जगह-जगह रैली निकालकर लोगों को जागरूक करने का कार्य किया गया। सार्वजनिक स्थान कलेक्ट्रेट परिसर, जिला पंचायत कार्यालय, एवं विकास भवन के सभी कार्यालयों में थूकदान स्थापित किए गये। इससे लोगों की सार्वजनिक स्थान पर थूकने की आदत में बदलाव आया है।